Desh Bhakti Shayari: Get #1 Desh Bhakti Shayari In Hindi

This time we are back with Amazing Desh Bhakti Shayari in Hindi. Of course, Everyone loves the country and wants to show patriotism for themselves. In this blog post, I have written some amazing  Desh Bhakti Shayari for you that will touch your heart, So here I bring you the best ever Desh bhakti Shayari in Hindi. If you have patriotism for your country then you can try this amazing Shayari. 

                                     And you can share these amazing Shayari along with your friends. So check it out and find out the best Shayari for yourself. 

Let's get started.




Desh Bhakti Shayari 




#1
वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं।



desh bhakti shayari in hindi



#2
ना दे दौलत, ना दे शोहरत कोई शिकवा नहीं,
बस भारत मां की संतान बना देना,
हो जाऊं शहीद तो बस तिरंगे में लिपटा देना।

#3
देश भक्त केवल वो ही नहीं होता,जो देश के लिए जान दे जाये ,
देश भक्त तो वो भी होते है ,
जो देश के लिए कुछ ऐसा काम करे जिससे हमारा देश की अर्थव्यवस्था बढ़े।

#4
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

#5
बस ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने,
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।

#6
ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता।

#7
शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,
होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो।

#8

लिख रहा हूँ मैं अंजाम ,
जिसका कल आगाज़ आएगा ,
मेरे लहू का हर एक कटरा इंक़लाब लाएगा

#9
लड़े जंग वीरों की तरह,
जब खून खौल फौलाद हुआ ,
मरते दम तक डटे रहे वो,
तब ही तो देश आजाद हुआ।

#10
लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है,
लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है,
बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की,
लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है।



desh bhakti shayari



#11
हम वतन के सिपाही है,
तन मन धन सब देश के नाम लिख जाएंगे,
जान तो क्या रूह भी देश के नाम कर जाएंगे।

#12
लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा,
 मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
 मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा।

#13
जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो,
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो,
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

#14
ग़ुरबत में हों अगर हम ,
रहता है दिल वतन में ,
संजो वहीँ हमें भी ,
दिल है जहान हमारा।

#15
दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान है,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका,
जब तक तुझ में जान है।

#16
फिर उड़ गए मेरी  नींद यह सोच कर ,
की जो शहीदों का बहा वो खून मेरी नींद क लिए था।

#17
लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा।

#18
जो अब तक न खौला ,
वो खून नहीं पानी था ,
जो देश के नाम ना आये ,
वो बेकार जवानी है।

#19
चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा,
यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में।

#20
कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,
हम लहराएंगे हर जगह,
ये तिरंगा नशा ये हिंदुस्तान की शान का है।



desh bhakti shayari 2019



#21
कि आ गया है वक्त अब वतन ए फिजा बदलो यारों,
कुछ तो होश करो यूं ना खामोश रहो यारों ।

#22
मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

#23
खुशनसीव हैं वो जो,
वतन पे मिट जाते हैं,
मर कर भी वो लोग,
अमर हो जाते हैं,
करता हूँ तुम्हे सलाम,
ऐ वतन पर मिटने वालो,
तुम्हारी हर सांस में बसना,
तिरंगे का नसीव है।

#24
परबत वो सब से ऊँचा ,
हम साया आस्मां का ,
वो संतरी हमारा ,
वो पासबान हमारा।

#25
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।



Desh Bhakti Status



#1
चले आओ मेरे परिंदों लौट कर अपने आसमान में,
देश की मिटटी से खेलो, दूर-दराज़ में क्या रक्खा है।

#2
दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त,
मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी।

#3
मिली थी ज़िंदगी ,
किसी के नाम आने के लिए ,
पर वक़्त बीत रहा है ,
कागज़ के टुकड़े कमाने के लिए ,
क्या करोगे इतना पैसा कमा कर ,
न कफ़न में जेब है न कब्र में अलमारी ,
और ये मौत के फ़रिश्ते तो ,
रिश्वत भी लेते।

#4
शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा।

#5
इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को दिल में हमेशा बसाए रखना।



desh bhakti status in hindi



#6
कोम को कबीलों में मत बाटिए,
लम्बे सफर को मीलो में मत बाटिए
ये बहता दरिया है मेरा भारत देश
इससे नदियों और झीलों में मत बाटिए।

#7
अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं,
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं,
इश्क तो करता है हर कोई, महबूब पे मरता है तो हर कोई,
कभी वतन को महबूब बना कर देखो तुझ पे मरेगा हर कोई।

#8
मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

#9
गोदी  में खेलती है ,
इस की हज़ारों नदियाँ ,
गुलशन है जिन के डैम से ,
रश्क -इ- जानां हमारा।

#10
ना पूछो ज़माने को ,
क्या हमारी कहानी हैं ,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है ,
की हम सर्फ हिंदुस्तानी है।

#11
वो तिरंगे वाली डीपी हो तो लगा लो जरा bhai ji,
सुना है कल देशभक्ति दिखाने वाली तारीख है।

#12
जिसे सींचा लहू से है वो यूँ खो नहीं सकती,
सियासत चाह कर विष बीज हरगिज बो नहीं सकती,
वतन के नाम पर जीना वतन के नाम मर जाना,
शहादत से बड़ी कोई इबादत हो नहीं सकती।

#13
दिलों की नफरत को निकालो,
वतन के इन दुश्मनों को मारो,
ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन,
भारत माँ के सम्मान को बचा लो। 

#14
अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है।

#15
सुंदर है जग में सबसे नाम भी न्यारा है,
जहां जाति भाषा से बढ़कर देश प्रेम की धारा है,
निश्चय पवन प्रेमपूर्ण और विशाल हृदय वाला है,
वह भारत देश हमारा है वह भारत देश हमारा है।



desh bhakti shayari hindi

#16
खूब बहती है गंगा बहने दो,
मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो,
लाल हरे में मत बांटो मुझको,
छत पर मेरे एक तिरंगा रहने दो।

#17
अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं,
 सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं।

#18
कुछ हाथ से मेरे निकल गया,
वो पलक झपक के छिप गया,
फिर लाश बिछ गयी लाखों की,
सब पलक झपक के बदल गया।

#19
जब रिश्ते राख में बदल गए,
इंसानियत का दिल दहल गया,
मैं पूछ पूछ के हार गया,
क्यूँ मेरा भारत बदल गया।

#21
मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा,
ये मुल्क मेरी जान है,
इसकी रक्षा के लिए,
मेरा दिल और जां कुर्बान है। 

#22
शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा। 

#23
जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,
जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं।


#24
अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है।



shayari desh bhakti



#25
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम भारतीय हैं जय भारत, वन्दे मातरम।



Read More Best Bhagat Singh Shayari In Hindi...




Desh Bhakti Quotes



#1
ए मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा,
यह शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गंवाए,
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर ना आए।

#2
आरजू बस यही है,
दम निकले तो तेरी बन्दगी में,
जय हिंद का नारा हो,
तिरंगा कफ़न हमारा हो।

#3
खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
 तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है।

#4
दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि,
मजहब बीच में न आये कभी,
तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो ,
वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी।

#5
मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

#6
मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

#7
जो देश के लिए शहीद हुए,
उनको मेरा सलाम है,
अपने खूंन  से जिस जमीं को सींचा,
उन बहादुरों को सलाम है। 

#8
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं।

#9
खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना,
अब हमारे दिल में है। 

#10
मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।



patriotic shayari



#11
मैं भारत देश का हरदम अमित सम्मान करता हूं,
यहां की चांदनी मिट्टी का गुणगान करता हूं,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूं,
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

#12
आरजू बस यही है,
मेरी हर सांस देश के नाम हो,
जो सिर उठे तो मेरे सामने तिरंगा हो,
जो सिर झुके तो वतन को प्रणाम हो।

#13
यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिन्दुस्तान वतन देना,
अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना,
न दे दोलत न दे शोहरत, कोई शिकवा नही हमको,
झुका दूँ सर मै दुश्मन का यही हिम्मत का धन देना,
अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना |

#14
आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो,
मस्जिद में भजन मंदिरों में अज़ान हो,
खून का रंग फिर एक जैसा हो,
तुम मनाओ दिवाली मेरे घर रमजान हो।

#15
 खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है। 

#16
सुन्दर है जग में सबसे, 
नाम भी सबसे न्यारा है
वो देश हमारा है, 
वो देश हमारा है। 

#17
लड़ें वो बीर जवानों की तरह,
ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,
मरते-मरते भी की मार गिराए,
तभी तो देश आज़ाद हुआ।

#18
जिंदगी है कल्पनाओं की जंग,
कुछ तो करो इसके लिए दबंग,
जियो शान से भरो उमंग,
लहराओ सबसे दिलों में देश के लिए तिरंगा। 

#19
जो देश के लिए शहीद हुए,
उनको मेरा सलाम है,
अपने खूं से जिस जमीं को सींचा,
उन बहादुरों को सलाम है।

#20
मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है,
देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है।



desh bhakti shayari image



#21
चिराग जलते है तो जलने दो,
आसमां रोशन होता है होने दो,
बंद करो हिन्दू मुस्लिम को बाटने का धंधा,
अब हमे मिलजुलकर एक तिरंगे के नीचे रहने दो।

#22
अपनी धरती अपना हैं ये वतन,
मेरा है मेरा है ये वतन,
इस पर जो आॅंख उठाएगा जिंदा दफना दिया जाएगा,
 मुझे जान से भी प्यारा है ये वतन।

#23
मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ ले कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान।

#24
उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई,
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है,
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि,
सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है। 

#25
कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है। 



Desh Bhakti Shayari


#1
किसी को लगता हैं हिन्दू ख़तरे में हैं,
किसी को लगता मुसलमान ख़तरे में हैं,
धर्म का चश्मा उतार कर देखो यारों,
पता चलेगा हमारा हिंदुस्तान ख़तरे में हैं।

#2
खींच दो अपने ख़ूँ से जमीं पर लकीर,
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई,
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे,
छू ना पाये सीता का दामन कोई,
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो,
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो। 

#3
खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना,
अब हमारे दिल में है।

#4
चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो,
लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो.

#5
ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है,
ना बड़ा सा नाम मेरा है,
मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है,
मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है,
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये जय हिन्द।



desh bhakti shayari download


#6
अब तो मरना जीना बस तिरंगे के नाम होगा,
अगला जन्म लिया तो मेरा देश हिंदुस्तान ही होगा।

#7
देश को आजादी के नए अफसानों की जरूरत है।
 भगत-आजाद जैसे आजादी के दीवानों की जरूरत है,
भारत को फिर देशभक्त परवानों की जरूरत है।

#8
वतन की सर बुलंदी में, हमारा नाम हो शामिल,
गुजरते रहना है हमको, सदा ऐसे मुकामो से।

#9
मत देख लेना निगाह उठा कर, 
मेरे वतन की तरफ वरना, 
वक्त भी तुम्हारा होगा, 
जगह भी तुम्हारी होगी, 
बस तिरंगा हमारा होगा।


#10
जुनून नहीं इश्क हो तुम मेरा, 
तिरंगा नहीं शान हो तुम मेरी, 
मां नहीं जान हो तुम मेरी।

#11
है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर,
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,
है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय,
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं।

#12
मन मेरे खुद को मग्न कर ले, 
अमर शहीदों को नमन कर ले।


#13
सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा,
हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा,
परबत वो सबसे ऊँचा,
हमसाया आसमाँ का,
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा।

#14
मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

#15
गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा,
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ,
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।



desh bhakti par shayari



#16
मेरा दिल मेरी धड़कन मेरी जान हो तुम,
अब तो मेरे वजूद की पहचान हो तुम,
ए मेरे भारत देश महान हो तुम महान हो तुम।

#17
लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
 मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा ,
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा।

#18
उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई,
उनकी शहादत का क़र्ज़ देश पर उधार है,
आप और हम इस लिए खुशहाल हैं क्योंकि,
सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं।

#19
ए वीरों जोश ना ठंडा हो पाए कदम मिलकर चल, 
माँ कसम मंजिल तेरे कदम चूमेगी आज नही तो कल।

#20
ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी बस चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर जिसकी हिफाज़त हमने की,
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।

#21
उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं,
जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं।

#22
सलाम है तिरंगे को जिसमें मेरे देश की शान है, 
ऊंचा रहेगा तिरंगा जब तक मेरे कतरे कतरे में जान है।

#23
ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा,
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए,
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये।

#24
जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की ह,
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो,
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

#25
जब भारत मां मुझे पुकारती है, 
तो इस कदर दीवाना हो जाता हूं, 
कि मौत भी पास आए तो गले लगा लेता हूं।


                                        




 I hope you like our Desh Bhakti Shayari in Hindi collection. We often bring you the loveable Instagram Caption, Whatsapp Status. So for a lot of content like this please like and follow Your Shayari.

                                    Also, do not forget to share this amazing Shayari along with your friends.
If you have some adorable Desh Bhakti Shayari In Hindi, don't forget to share them with us.
Stay Tuned.

Thanks,
Have a great day!

Now tell me which one Desh Bhakti Shayari you like the most?